सरदार वल्लभ भाई पटेल ने अपने शरीर पर क्यों लगाई जलती हुई छड़, आई उनकी जीवन गाथा

0
105
views

लौह पुरुष के रूप में अपनी अलग पहचान रखने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर आज हम आपको उनके जीवन से जुड़ी कुछ बातें बता रहे हैं। कहा जाता है कि आजादी के समय राजा ने देश में बिखरे हुए राज्यों को मिलाकर एक अखंड भारत का निर्माण किया था।

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को खेड़ा जिले के उनके मोसल यानि नडियाद में हुआ था, जबकि उनकी माता का नाम लाडबाई था। जबकि उनके पिता जावेरभाई खेती करते थे। आपको बता दें कि वल्लभभाई पिता झवेरभाई और मां लाडबा की चौथी संतान थे।

कहा जाता है कि वल्लभभाई पटेल की शादी 18 साल की उम्र में जावेरबा से कर दी गई थी। इसी तरह शादी के बाद वह पढ़ाई पूरी करने नडियाद, पेटलाड, बोरसाड आ गए। आखिरकार 22 साल की उम्र में उन्होंने मैट्रिक पास कर लिया। जब वह वकालत करना चाहती थी, तो उसने पैसे बचाए और इंग्लैंड में बैरिस्टर बन गई।

अंत में वे वापस लौटे और गोधरा में अपना घरेलू जीवन शुरू किया, जिसमें उनके दो बच्चे भी थे। कहा जाता है कि 1909 में उनकी पत्नी जावेरबा को कैंसर के इलाज के लिए मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन वे ज्यादा दिन जीवित नहीं रहे। और उनका निधन हो गया।

उन्हें पहली बार 1917 में अहमदाबाद में स्वच्छता विभाग के एक अधिकारी के रूप में चुना गया था। जिसके बाद उनकी मुलाकात गांधी जी से हुई। अपनी सफल वकालत के दौरान वे महात्मा गांधी के कार्य और विचारधारा से काफी प्रभावित थे। इसके बाद वे अंग्रेजों से स्वराज की मांग वाली याचिका में भागीदार बने।

Download

ऐसा माना जाता है कि पाकिस्तान ने 1947 में भारत पर आक्रमण किया था और भारत के विभाजन के दौरान लगभग 562 रियासतों को एकजुट करने में सरदार साहब का अनूठा योगदान था। यह भी कहा जाता है कि वह पहले से ही नस्लवाद के विरोधी थे। उन्होंने गुजरात में शराब, जातिवाद, छुआछूत पर बहुत काम किया।

आपको बता दें कि उन्होंने भारत के राजनीतिक और सामाजिक नेता होने के साथ-साथ देश के स्वतंत्रता संग्राम में अहम योगदान दिया। विशेष रूप से, सरदार पटेल ने 562 राज्यों को एकीकृत किया, यही कारण है कि उनके जन्मदिन को राष्ट्रीय एकता का दिन भी कहा जाता है।इस दिन को विशेष रूप से इसके लिए मनाया जाता है।

बहुत कम लोगों को पता होगा कि वल्लभभाई को बारडोली सत्याग्रह के बाद मिली सफलता के बाद सरदार की उपाधि मिली थी। 1930 के दशक में जब गुजरात में प्लेग फैला, तो वह लोगों की सेवा में शामिल हो गए, जो भी इस बीमारी से प्रभावित थे। जबकि सरदार पटेल की महात्मा गांधी के प्रति अधिक भावना थी। लेकिन इस बार गांधी जी की हत्या की खबर ने उन्हें झकझोर कर रख दिया।

इस समय तक उनकी तबीयत खराब हो रही थी। अंतत: 15 दिसंबर 1950 को मुंबई में सरदार पटेल की मृत्यु हो गई। लेकिन आपको बता दें कि मौत के वक्त सरदार पटेल के खाते में सिर्फ 216 रुपये थे। यानी उन्होंने सादगी से अपना जीवन व्यतीत किया। वह हमेशा लोगों और देश की सेवा के लिए जुड़ते रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here